मुफ़्त विदेशी मुद्रा रणनीति

न्यूनतम निवेश राशि

न्यूनतम निवेश राशि

न्यूनतम निवेश राशि

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या न्यूनतम निवेश राशि यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई न्यूनतम निवेश राशि भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

निवेश उत्‍पाद

बैंक ऑफ बड़ौदा पहली बार एवं अनुभवी निवेशकों की आवश्‍यकताओं को पूरा करने के न्यूनतम निवेश राशि लिए म्यूचुअल फंड, पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवाओं (पीएमएस), बांड, एनसीडी, वैकल्पिक निवेश उत्पादों आदि की विस्तृत श्रृंखला पेश करता है.

म्यूचुअल फंड निवेश

  • म्युचुअल फंड दीर्घावधि में मुद्रास्फीति से निपटने एवं कर-बचत प्रतिफल (रिटर्न) प्रदान करते हैं .
  • निवेशक अपने जोखिम / रिटर्न प्रोफाइल के अनुसार विभिन्न आस्ति वर्गों जैसे इक्विटी, ऋण या सोने में निवेश कर सकते हैं.

वैकल्पिक निवेश उत्‍पाद

  • वैकल्पिक निवेश उत्पादों का उपयोग करके पेशेवर प्रबंधित और विविध प्रकार की निवेश नीतियों की सुविधा प्राप्त करें.
  • वैकल्पिक निवेश उत्पाद में पोर्टफोलियो प्रबंधित सेवा, संरचित उत्पाद आदि शामिल हैं.

बड़ौदा ई-ट्रेड 3 इन 1 खाता

  • बाधा रहित और सुरक्षित ट्रेडिंग अनुभव प्राप्‍त करने के लिए बैंक ऑफ़ बड़ौदा के साथ एक सिंक्रोनाइज़ बैंक, डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलें .
  • डिजिटल खाता खोलने की प्रक्रिया 100% कागज रहित और बाधा-रहित मुक्त है.

डिमैट खाता

आसान स्‍टोरेज एवं लेनदेन की सुविधा के लिए प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखें.

  • आसान स्‍टोरेज एवं लेनदेन की सुविधा के लिए प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखें.

क्‍या आपको सहायता की आवश्‍यकता है?

कॉलबैक अनुरोध

कृपया यह विवरण भरें, ताकि हम आपको वापस कॉल कर सकें और आपकी सहायता कर सकें.

Thank you न्यूनतम निवेश राशि [Name] for showing interest in Bank of Baroda. Your details has been recorded and our executive will contact you soon.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

म्यूचुअल फंड निवेशकों को यूनिट जारी करके और प्रस्ताव दस्तावेज में बताए गए उद्देश्यों के अनुसार प्रतिभूतियों में फंड का निवेश करके धन जमा करने का एक साधन है.

प्रतिभूतियों में निवेश उद्योगों और क्षेत्रों के व्यापक क्रॉस-सेक्शन में फैला हुआ है और इस प्रकार इसमें अनेक प्रकार की जोखिम है क्योंकि सभी स्टॉक एक ही तरह से और एक ही समय में सामान अनुपात में नहीं चल सकते हैं. म्यूचुअल फंड द्वारा निवेशकों को उनके द्वारा निवेश किए गए धन की मात्रा के अनुसार इकाइयाँ जारी किया जाता है. म्यूचुअल फंड के निवेशकों को यूनिटहोल्डर के रूप में जाना जाता है.

इसके अंतर्गत न्यूनतम निवेश राशि लाभ या हानि निवेशकों द्वारा उनके निवेश के अनुपात में शेयर की जाती है. म्यूचुअल फंड आम तौर पर कई योजनाएं लेकर आते हैं जो समय-समय पर विभिन्न निवेश उद्देश्यों के साथ शुरू की जाती हैं.

म्यूचुअल फंड की किसी विशेष योजना का कार्यनिष्पादन इसके नेट आस्ति मूल्य (एनएवी) द्वारा दर्शाया जाता है.

म्यूचुअल फंड निवेशकों से जुटाए गए रकम को प्रतिभूति बाजार में निवेश करते हैं. सरल शब्दों में, एनएवी योजना द्वारा धारित प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य होता है. चूंकि प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य प्रत्येक दिन बदलता है, इसलिए किसी योजना का एनएवी भी दैनिक आधार पर बदलता रहता है. प्रति इकाई एनएवी किसी विशेष तिथि पर योजना की कुल इकाइयों की संख्या से विभाजित करके इसकी प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य होता है. उदाहरण के लिए, यदि म्यूचुअल फंड योजना की प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य रू. 200 लाख है और म्यूचुअल फंड ने निवेशकों को 10 रुपये की 10 लाख इकाइयां जारी की हैं, तो फंड की प्रति यूनिट एनएवी 20 रुपये (यानी, 200) होगी. म्यूचुअल फंड द्वारा दैनिक आधार पर एनएवी का खुलासा करना आवश्यक होता है.

  • परिपक्वता अवधि के अनुसार योजनाएं:

किसी म्यूचुअल फंड योजना को उसकी परिपक्वता अवधि के आधार पर ओपन-एंडेड योजना या क्लोज-एंडेड योजना क्र रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है.

ओपन-एंडेड फंड / योजना

एक ओपन-एंडेड फंड या योजना वह है जो निरंतर आधार पर सदस्यता और पुनर्खरीद के लिए उपलब्ध होता है. इन योजनाओं की कोई निश्चित परिपक्वता अवधि नहीं होती है. निवेशक आसानी से प्रति यूनिट नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) पर यूनिट खरीद और बेच सकते हैं जिसे दैनिक आधार पर घोषित किया जाता है. ओपन-एंड योजनाओं की प्रमुख विशेषता तरलता(लिक्वीडीटी है

क्लोज-एंडेड फंड / योजना

क्लोज-एंडेड फंड या स्कीम के अंतर्गत एक निर्धारित परिपक्वता अवधि होती है, जैसे, 3-5 साल. योजना के शुभारंभ के समय एक निर्दिष्ट अवधि के दौरान ही फंड सदस्यता के लिए खुला रहता है. निवेशक नए फंड की पेशकश के समय इस योजना में निवेश कर सकते हैं और बाद में वे स्टॉक एक्सचेंजों पर योजना की इकाइयों की खरीद या बिक्री कर सकते हैं जहां इकाइयां सूचीबद्ध हैं. निवेशकों को एक एक्जिट मार्ग प्रदान करने के लिए, कुछ क्लोज-एंडेड फंड एनएवी से संबंधित कीमतों पर आवधिक पुनर्खरीद के माध्यम से यूनिट को म्यूचुअल फंड को फिर से बेचने का विकल्प देते हैं.

किसी योजना को उसके निवेश के उद्देश्य पर विचार करते हुए विकास योजना, आय योजना या संतुलित योजना के रूप में भी वर्गीकृत किया जा सकता है. इस तरह की योजनाएं ओपन-एंडेड या क्लोज-एंडेड कोई भी हो सकती हैं जैसा कि इससे पूर्व सूचित किया है. ऐसी योजनाओं को मुख्य रूप से निम्नानुसार वर्गीकृत किया जा सकता है:

विकास/इक्विटी उन्मुख योजना

ग्रोथ फंड का उद्देश्य मध्यम से लंबी अवधि में पूंजी वृद्धि प्रदान करना है. ऐसी योजनाएं आम तौर पर अपनी निधि का का एक बड़ा हिस्सा इक्विटी में निवेश करती हैं. ऐसे फंडों में तुलनात्मक रूप से उच्च जोखिम निहित होता है. ये योजनाएं निवेशकों को लाभांश विकल्प एवं विकास जैसे विभिन्न विकल्प प्रदान करती हैं और निवेशक अपनी पसंद के आधार पर किसी विकल्प का चयन कर सकते हैं. निवेशकों द्वारा अपने आवेदन पत्र में ऐसे विकल्प का उल्लेख करना चाहिए. म्यूचुअल फंड अपने निवेशकों को इसकी तारीख के बाद भी अपना विकल्प बदलने की अनुमति भी प्रदान करते हैं.. दीर्घावधि के दृष्टिकोण वाले निवेशकों के लिए ऐसी विकास योजनाएं अच्छी होती हैं, जो समय की अवधि में इसमें बढ़ोत्तरी चाहते हैं.

आय/ऋण उन्मुख योजना

आय फंड का उद्देश्य निवेशकों को नियमित और निश्चित आय प्रदान करना है. ऐसी योजनाएं आम तौर पर निश्चित आय प्रतिभूतियों जैसे बांड, कॉर्पोरेट डिबेंचर, सरकारी प्रतिभूतियों और मुद्रा बाजार के साधनों में अपना निवेश करती हैं और ऐसे फंड इक्विटी योजनाओं की तुलना में कम जोखिम वाले होते हैं.

हालांकि, ऐसे फंड्स में कैपिटल एप्रिसिएशन के अवसर भी सीमित होते हैं. देश में ब्याज दरों में होने वाले बदलाव के कारण ऐसे फंडों की एनएवी प्रभावित होती है. ब्याज दरें कम होने पर ऐसे फंडों के एनएवी में अल्पावधि में वृद्धि होने की संभावना रहती है और ब्याज दर में वृद्धि होने पर इसके विपरीत प्रभाव पड़ता है. तथापि दीर्घावधि के निवेशक इन उतार-चढ़ावों से परेशान नहीं हो सकते हैं.

संतुलित योजनाओं का उद्देश्य विकास और नियमित आय दोनों ही प्रदान करना है क्योंकि ऐसी योजनाएं इक्विटी और निश्चित आय प्रतिभूतियों दोनों में इनके प्रस्ताव दस्तावेजों में दर्शाए अनुपात में निवेश करती हैं. ये मध्यम वृद्धि की तलाश कर रहे निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं. शेयर बाजारों में शेयर की कीमतों में उतार चढ़ाव होने के कारण भी ये फंड प्रभावित होते हैं. हालांकि, ऐसे फंडों के एनएवी के शुद्ध इक्विटी फंड की तुलना में अस्थिर होने की संभावना कम होती है.

Senior Citizen Saving Scheme: पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में मात्र 5 सालों के निवेश पर मिलेंगे 14 लाख रुपये, जानें इसके बारे में

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

आज हम आपको पोस्ट ऑफिस की एक ऐसी खास स्कीम के बारे में बताने वाले हैं, जिसमें निवेश करके आप अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं। इस स्कीम का नाम पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम है। अपने भविष्य को सुरक्षित करने की दिशा में लोग कई जगहों पर निवेश करते हैं। अक्सर कई बार उनको वहां से उतना रिटर्न नहीं मिल पाता, जितना उन्हें अपेक्षा रहती है। वहीं अगर आप पोस्ट ऑफिस की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में निवेश करते हैं, तो आपको शानदार रिटर्न मिलेगा। इस बचत योजना में इन्वेस्ट करने पर बाजार जोखिमों का खतरा भी नहीं रहेगा। मैच्योरिटी के समय इसमें आपको शानदार मुनाफा मिलेगा। इस स्कीम में सुरक्षित निवेश के साथ आप लखपति बन जाएंगे। वर्तमान समय में इस योजना में 7.4 प्रतिशत की ब्याज दर मिल रही है। इस स्कीम में आप आसानी से 5 साल निवेश करके 14 लाख रुपये तक का फंड बना सकते हैं। आइए जानते हैं पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना के बारे में विस्तार से -

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

इस स्कीम में खाता खुलवाने के लिए कम से कम 60 वर्ष की उम्र होनी चाहिए। इस बचत योजना में न्यूनतम निवेश राशि 1,000 रुपये है। वहीं अधिकतम निवेश राशि को 15 लाख रुपये तय किया गया न्यूनतम निवेश राशि है। इसमें आपको पांच साल की लॉक-इन अवधि मिलेगी।

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

इस स्कीम में वो लोग भी खाता खुलवा सकते हैं, जिन्होंने वीआरएस (Voluntary Retirement Scheme) ले रखी है। इस स्कीम में निवेश करने पर आपको इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट भी मिलेगी।

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

अगर आप इस स्कीम में निवेश करके 5 साल में 14 लाख रुपये का फंड बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में एक साथ 10 लाख रुपये इन्वेस्ट करने होंगे। सालाना 7.4 फीसदी कंपाउंड इंटरेस्ट रेट के साथ आपको 5 साल की मैच्योरिटी पर14,28,964 रुपये मिलेंगे।

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

अर्थात इस बचत योजना में इन्वेस्ट करने पर आपको 4,28,964 रुपये का लाभ मिलेगा। भारत में बड़े पैमाने पर वरिष्ठ नागरिक इस स्कीम में अपने पैसों को निवेश कर रहे हैं। अगर आप भी किसी ऐसी ही बचत योजना की तलाश में हैं, तो पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

Senior Citizen Saving Scheme: पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में मात्र 5 सालों के निवेश पर मिलेंगे 14 लाख रुपये, जानें इसके बारे में

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

आज हम आपको पोस्ट ऑफिस की एक ऐसी खास स्कीम के बारे में बताने वाले हैं, जिसमें निवेश करके आप अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं। इस स्कीम का नाम पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम है। अपने भविष्य को सुरक्षित करने की दिशा में लोग कई जगहों पर निवेश करते हैं। अक्सर कई बार उनको वहां से उतना रिटर्न नहीं मिल पाता, जितना उन्हें अपेक्षा रहती है। वहीं अगर आप पोस्ट ऑफिस की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में निवेश करते हैं, तो आपको शानदार रिटर्न मिलेगा। इस बचत योजना में इन्वेस्ट करने पर बाजार जोखिमों का खतरा भी नहीं रहेगा। मैच्योरिटी के समय इसमें आपको शानदार मुनाफा मिलेगा। इस स्कीम में सुरक्षित निवेश के साथ आप लखपति बन जाएंगे। वर्तमान समय में इस योजना में 7.4 प्रतिशत की ब्याज दर मिल रही है। इस स्कीम में आप आसानी से 5 साल निवेश करके 14 लाख रुपये तक का फंड बना सकते हैं। आइए जानते हैं पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना के बारे में विस्तार से -

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

इस स्कीम में खाता खुलवाने के न्यूनतम निवेश राशि लिए कम से कम 60 वर्ष की उम्र होनी चाहिए। इस बचत योजना में न्यूनतम निवेश राशि 1,000 रुपये है। वहीं अधिकतम निवेश राशि को 15 लाख रुपये तय किया गया है। इसमें आपको पांच साल की लॉक-इन अवधि मिलेगी।

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

इस स्कीम में वो लोग भी खाता खुलवा सकते हैं, जिन्होंने वीआरएस (Voluntary Retirement Scheme) ले रखी है। इस स्कीम में निवेश करने पर आपको इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट भी मिलेगी।

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

अगर आप इस स्कीम में निवेश करके 5 साल में 14 लाख रुपये का फंड बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में एक साथ 10 लाख रुपये इन्वेस्ट करने होंगे। सालाना 7.4 फीसदी कंपाउंड इंटरेस्ट रेट के साथ आपको 5 साल की मैच्योरिटी पर14,28,964 रुपये मिलेंगे।

पोस्ट ऑफिस वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

अर्थात इस बचत योजना में इन्वेस्ट करने पर आपको 4,28,964 रुपये का लाभ मिलेगा। भारत में बड़े पैमाने पर वरिष्ठ नागरिक इस स्कीम में अपने पैसों को निवेश न्यूनतम निवेश राशि कर रहे हैं। अगर आप भी किसी ऐसी ही बचत योजना की तलाश में हैं, तो पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

निवेश उत्‍पाद

बैंक ऑफ बड़ौदा पहली बार एवं अनुभवी निवेशकों की आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए म्यूचुअल फंड, पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवाओं (पीएमएस), बांड, एनसीडी, वैकल्पिक निवेश उत्पादों आदि की विस्तृत श्रृंखला पेश करता है.

म्यूचुअल फंड निवेश

  • म्युचुअल फंड दीर्घावधि में मुद्रास्फीति से निपटने एवं कर-बचत प्रतिफल (रिटर्न) प्रदान करते हैं .
  • निवेशक अपने जोखिम / रिटर्न प्रोफाइल के अनुसार विभिन्न आस्ति वर्गों जैसे इक्विटी, ऋण या सोने में निवेश कर सकते हैं.

वैकल्पिक निवेश उत्‍पाद

  • वैकल्पिक निवेश उत्पादों का उपयोग करके पेशेवर प्रबंधित और विविध प्रकार की निवेश नीतियों की सुविधा प्राप्त करें.
  • वैकल्पिक निवेश उत्पाद में पोर्टफोलियो प्रबंधित सेवा, संरचित उत्पाद आदि शामिल हैं.

बड़ौदा ई-ट्रेड 3 इन 1 खाता

  • बाधा रहित और सुरक्षित ट्रेडिंग अनुभव प्राप्‍त करने के लिए बैंक ऑफ़ बड़ौदा के साथ एक सिंक्रोनाइज़ बैंक, डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलें .
  • डिजिटल खाता खोलने की प्रक्रिया 100% कागज रहित और बाधा-रहित मुक्त है.

डिमैट खाता

आसान स्‍टोरेज एवं लेनदेन की सुविधा के लिए प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखें.न्यूनतम निवेश राशि

  • आसान स्‍टोरेज एवं लेनदेन की सुविधा के लिए प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखें.

क्‍या आपको सहायता की आवश्‍यकता है?

कॉलबैक अनुरोध

कृपया यह विवरण भरें, ताकि हम आपको वापस कॉल कर सकें और आपकी सहायता कर सकें.

Thank you [Name] for showing interest in Bank of Baroda. Your details has been recorded and our executive will contact you soon.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

म्यूचुअल फंड निवेशकों को यूनिट जारी करके और प्रस्ताव दस्तावेज में बताए गए उद्देश्यों के अनुसार प्रतिभूतियों में फंड का निवेश करके धन जमा करने का एक साधन है.

प्रतिभूतियों में निवेश उद्योगों और क्षेत्रों के व्यापक क्रॉस-सेक्शन में फैला हुआ है और इस प्रकार इसमें अनेक प्रकार की जोखिम है क्योंकि सभी स्टॉक एक ही तरह से और एक ही समय में सामान अनुपात में नहीं चल सकते हैं. म्यूचुअल फंड द्वारा निवेशकों को उनके द्वारा निवेश किए गए धन की मात्रा के अनुसार इकाइयाँ जारी किया जाता है. म्यूचुअल फंड के निवेशकों को यूनिटहोल्डर के रूप में जाना जाता है.

इसके अंतर्गत लाभ या हानि निवेशकों द्वारा उनके निवेश के अनुपात में शेयर की जाती है. म्यूचुअल फंड आम तौर पर कई योजनाएं लेकर आते हैं जो समय-समय पर विभिन्न निवेश उद्देश्यों के साथ शुरू की जाती हैं.

म्यूचुअल फंड की किसी विशेष योजना का कार्यनिष्पादन इसके नेट आस्ति मूल्य (एनएवी) द्वारा दर्शाया जाता है.

म्यूचुअल फंड निवेशकों से जुटाए गए रकम को प्रतिभूति बाजार में निवेश करते हैं. सरल शब्दों में, एनएवी योजना द्वारा धारित प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य होता है. चूंकि प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य प्रत्येक दिन बदलता है, इसलिए किसी योजना का एनएवी भी दैनिक आधार पर बदलता रहता है. प्रति इकाई एनएवी किसी विशेष तिथि पर योजना की कुल इकाइयों की संख्या से विभाजित करके इसकी प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य होता है. उदाहरण के लिए, यदि म्यूचुअल फंड योजना की प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य रू. 200 लाख है और म्यूचुअल फंड ने निवेशकों को 10 रुपये की 10 लाख इकाइयां जारी की हैं, तो फंड की प्रति यूनिट एनएवी 20 रुपये (यानी, 200) होगी. म्यूचुअल फंड द्वारा दैनिक आधार पर एनएवी का खुलासा करना आवश्यक होता है.

  • परिपक्वता अवधि के अनुसार योजनाएं:

किसी म्यूचुअल फंड योजना को उसकी परिपक्वता अवधि के आधार पर ओपन-एंडेड योजना या क्लोज-एंडेड योजना क्र रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है.

ओपन-एंडेड फंड / योजना

एक ओपन-एंडेड फंड या योजना वह है जो निरंतर आधार पर सदस्यता और पुनर्खरीद के लिए उपलब्ध होता है. इन योजनाओं की कोई निश्चित परिपक्वता अवधि नहीं होती है. निवेशक आसानी से प्रति यूनिट नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) न्यूनतम निवेश राशि पर यूनिट खरीद और बेच सकते हैं जिसे दैनिक आधार पर घोषित किया जाता है. ओपन-एंड योजनाओं की प्रमुख विशेषता तरलता(लिक्वीडीटी है

क्लोज-एंडेड फंड / योजना

क्लोज-एंडेड फंड या स्कीम के अंतर्गत एक निर्धारित परिपक्वता अवधि होती है, जैसे, 3-5 साल. योजना के शुभारंभ के समय एक निर्दिष्ट अवधि के दौरान ही फंड सदस्यता के लिए खुला रहता है. निवेशक नए फंड की पेशकश के समय इस योजना में निवेश कर सकते हैं और बाद में वे स्टॉक एक्सचेंजों पर योजना की इकाइयों की खरीद या बिक्री कर सकते हैं जहां इकाइयां सूचीबद्ध हैं. निवेशकों को एक एक्जिट मार्ग प्रदान करने के लिए, कुछ क्लोज-एंडेड फंड एनएवी से संबंधित कीमतों पर आवधिक पुनर्खरीद के माध्यम से यूनिट को म्यूचुअल फंड को फिर से बेचने का विकल्प देते हैं.

किसी योजना को उसके निवेश के उद्देश्य पर विचार करते हुए विकास योजना, आय योजना या संतुलित योजना के रूप में भी वर्गीकृत किया जा सकता है. इस तरह की योजनाएं ओपन-एंडेड या क्लोज-एंडेड कोई भी हो सकती हैं जैसा कि इससे पूर्व सूचित किया है. ऐसी योजनाओं को मुख्य रूप से निम्नानुसार वर्गीकृत किया जा सकता है:

विकास/इक्विटी उन्मुख योजना

ग्रोथ फंड का उद्देश्य मध्यम से लंबी अवधि में पूंजी वृद्धि प्रदान करना है. ऐसी योजनाएं आम तौर पर अपनी निधि का का एक बड़ा हिस्सा इक्विटी में निवेश करती हैं. ऐसे फंडों में तुलनात्मक रूप से उच्च जोखिम निहित होता है. ये योजनाएं निवेशकों को लाभांश विकल्प एवं विकास जैसे विभिन्न विकल्प प्रदान करती हैं और निवेशक अपनी पसंद के आधार पर किसी विकल्प का चयन कर सकते हैं. निवेशकों द्वारा अपने आवेदन पत्र में ऐसे विकल्प का उल्लेख करना चाहिए. म्यूचुअल फंड अपने निवेशकों को इसकी तारीख के बाद भी अपना विकल्प बदलने की अनुमति भी प्रदान करते हैं.. दीर्घावधि के दृष्टिकोण वाले निवेशकों के लिए ऐसी विकास योजनाएं अच्छी होती हैं, जो समय की अवधि में इसमें बढ़ोत्तरी चाहते हैं.

आय/ऋण उन्मुख योजना

आय फंड का उद्देश्य निवेशकों को नियमित और निश्चित आय प्रदान करना है. ऐसी योजनाएं आम तौर पर निश्चित आय प्रतिभूतियों जैसे बांड, कॉर्पोरेट डिबेंचर, सरकारी प्रतिभूतियों और मुद्रा बाजार के साधनों में अपना निवेश करती हैं और ऐसे फंड इक्विटी योजनाओं न्यूनतम निवेश राशि की तुलना में कम जोखिम वाले होते हैं.

हालांकि, ऐसे फंड्स में कैपिटल एप्रिसिएशन के अवसर भी सीमित होते हैं. देश में ब्याज दरों में होने वाले बदलाव के कारण ऐसे फंडों की एनएवी प्रभावित होती है. ब्याज दरें कम होने पर ऐसे फंडों के एनएवी में अल्पावधि में वृद्धि होने की संभावना रहती है और ब्याज दर में वृद्धि होने पर इसके विपरीत प्रभाव पड़ता है. तथापि दीर्घावधि के निवेशक इन उतार-चढ़ावों से परेशान नहीं हो सकते हैं.

संतुलित योजनाओं का उद्देश्य विकास और नियमित आय दोनों ही प्रदान करना है क्योंकि ऐसी योजनाएं इक्विटी न्यूनतम निवेश राशि और निश्चित आय प्रतिभूतियों दोनों में इनके प्रस्ताव दस्तावेजों में दर्शाए अनुपात में निवेश करती हैं. ये मध्यम वृद्धि की तलाश कर रहे निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं. शेयर बाजारों में शेयर की कीमतों में उतार चढ़ाव होने के कारण भी ये फंड प्रभावित होते हैं. हालांकि, ऐसे फंडों के एनएवी के शुद्ध इक्विटी फंड की तुलना में अस्थिर होने की संभावना कम होती है.

रेटिंग: 4.48
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 422
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *